Wednesday, 29 February 2012

साहिब

कुछ इस अदा से
कहा उसने
'काफ़िर हो तुम,
तुम्हारा इरादा काफ़िर.
आलिम सब हमारे,
हमारे सब जाकिर'
तंगदिल, निजाम की हरकतें ऐसी
खुद साहिब के ईमान की सारी दलील
बेतासीर

Inspired by: The German's Hand. And the Doctor's Googly

1 comment:

Chirag Joshi said...

nice lines
आलिम सब हमारे,
हमारे सब जाकिर'