Sunday, 31 May 2009

तुम?

अच्छा तो अब,
अठकेलियाँ करती रातो के साथ
तुम भी इठलाते हो?
माना बहुत तेज हो,
बहती हवा जैसे;
पल में धुआं सा उड़ जाते हो,
लाख बार समझाने पर भी;
मन की ओट में;
अपनी जगह बनाते हो,
हाँ हाँ जानती हूँ,
तुम नखरा नही दिखाते,
पर सामने भी तो नही आते,
बस धीमे से;
उँगलियाँ चटखाते हो,
जानते हो,
मैंने चंदा से भी शिकायत की थी;
और तारो ने भी पहरेदारी की,
आख़िर कौन हो तुम
जो नैनो में
मस्तियाँ भर जाते हो?

Wednesday, 27 May 2009

फ़िर मतदान!

लो ये भी कोई बात हुई,
दो साल बाद बिनायक सेन
बेल पे आजाद हुए;
और जावेद इकबाल नज़रबंद,
भोपाल को कमीशन का
वायेदा मिला,
और छत्तीसगढ़ को सलवा जादुम;
आजाद भारत में,
तिब्बत की आज़ादी का उड़ा माखौल;
सरकारी कारयालो में
अब इंसानी जिंदगी का तौल मौल,
फ़िर भी हर बार होता है;
जुनून-ऐ- नया दौर,
और तमाम राजनैतिक दल
करते हैं बहुत शोर,
आख़िर किस की सरपरस्ती में देश चला;
राहुल से लेकर मायावती तक,
बताओ तो यहाँ कौन है भला;
जंतर मंतर पे कार्बाईड की गैस खाया;
बच्चा आठ महीनो तक
प्रधानमंत्री के दर्शन को रोता है,
लेकिन उनसे मिलने का अहो भाग्ये तो
केवल टाटा-दोउ-अम्बानी को सुलभ होता है,
फ़िर भी ब्लैकमेल प्रूफ़ हो इतिहास ख़ुद को दोहराता है;
आम आदमी खाली हाथ किस्मत कोसता रह जाता है,
और शून्ये से शुरआत हो जैसे;
युवा भारत पे टकटकी लगाता है

Monday, 25 May 2009

एक बात

एक बात तो बताओ,
हंसी के पैमानो में
मुझे तौलने से पहले
क्या तुमने पैमाना तौला था?
वो दोनो तरफ से खाली था,
जैसे बेफिक्र कोई सवाली हो?
या एक और से चमकता था,
मानो नोट कोई जाली हो?
एक बात तो बताओ,
जब मेरी हसीं से हँसते थे तुम,
तो आँसू कोई देखा था?
वो जो पलक से थमता भी नहीं,
झलक गिरता है;
और वो जो पलक में सँवरता भी नहीं,
फलक सिमटता है
चलो रहने दो, बस;
एक बात तो बताओ,
वो दिन रात था,
या वो रात दिन?
रेत का निशाँ था,
या चाँद चांदनी बिन
रास्तो पे आस थी,
या मंजर कोई हसीं?
मालूम हो,
हथेलियो पे जाम था,
फिर क्यूँ साकी
था सच नहीं?

Sunday, 10 May 2009

Hypothetical Heroes

I remember a dear friend
telling me,
'learn to read the silences,
no words are needed;
when actions ring,
you are loved dearly,
and silences sing.'
I marveled at his wisdom,
I cherished this verse;
like Alice,
I walked with hypothetical heroes
in a parallel universe.
You know ,
I belong to Jane Austen's world,
and so one day I met someone,
who wasn't a duke
who wasn't a duke's friend either
he didn't mention pride,
and prejudice neither.
I was overwhelmed,
he looked so strong,
he smelled of courage;
so I followed my heart's song.
He delighted in the joy,
yet spoke of his fears;
It was unusual something,
he said, he didn't share with his peers;
he wondered why,
he has untouched shores,
with no space and closed doors,
we walked hand in hand,
and he led me to a place,
I was touched
and I was delighted
The canopy was thick
flowers were wild,
colours were bright;
and breeze was mild,
this 'garden of peace' he called his heart
I was there and I was his part.
Butterflies fluttered,
cuckoos called;
I basked in this beauty,
fumbled and stalled
'love is a leap,
I heard someone say.
Did you mean that I can stay
Forever and a day?.'
He gleamed,
and he smiled,
I saw a twinkle;
as he replied,
'Oh, stay you can't,
but you can come again;
You are a special friend,
and I love to entertain.'
He took me by hand,
and read me a verse;
Hypothetical heroes
in a parallel universe.
So you see my friend,
I don't know if silences sing
words are true and actions can ring
But for sure I gained some insight
that murky night when silences sighed!

Sequel

Yes,
I didn't forget our togetherness
and I didn't discard the happiness in it
both however hypothetical
Yet,
I deserve an explanation
though you would say
silence speaks
But,
I didn't forget our togetherness
and I didn't discard the happiness in it
So,
despite the longings and the pains
the sequel to love awaits
hypothetical heroes in a parallel universe!