Friday, 22 July 2011

बेइत्तिफ़ाक़ि

एक हाथ का पंछी,
एक आस का भंवरा,
कभी आफताब के लिए मचलता है,
कभी बद्र के लिए तरसता है,
अब तुम्हे कैसे कहूं
ऐ दोस्त,
मखरूर मन मेरा,
किस कैफीयत में,
दर बदर भटकता है !
और; अगर कह भी दूं
तो क्या हासिल ?
ना मंज़र में मन मेरा,
ना खुद पे मैं फाज़िल

5 comments:

Arun said...

Nice lines Shalini

chirag said...

really superb poem
loving it
specially this lines
मखरूर मन मेरा,
किस कैफीयत में,
दर बदर भटकता है !

Shalini Sharma said...

@Arun and chirag: am glad you liked it. Do visit more often :)

anand said...

badhia hai, maza aa gaya. liked the closure. likhte raho bandhu...

Kalpana said...

Arrey wah! kis kaifiyat se maine google translator par apke lafzon ke arthat khojne ki koshish ki hai :-)
Jokes apart...

Very profound !